Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
14, August,2018 04:41:51
वृन्दावन कोतवाली इलाके में धुरुव ट्रेवल्स के मालिक की गोली मारकर हत्या | सूत्र-जेडीएस को समर्थन पर कांग्रेस में बगावत...सात विधायक बीजेपी के द्वार | मुख्यमंत्री ने जताया घटना पर अफसोस ,घायलों को सभी संभव मदद व उपचार के लिए निर्देश | केशव प्रसाद मौर्य ने कुशीनगर में रेलवे क्रोसिंग पर हुई स्कूल बस दुर्घटना पर दुख व्यक्त किया है | 8 वर्षीय नाबालिग बच्ची से रेप की वारदात | भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से सीबीआइ अभी और दो दिन पूछताछ करेगी | काली मंदिर की मूर्ति तोड़े जाने से गावँ में तनाव, | हैलेट में एम्बुलेंस तोड़े जाने के मामले में प्रमुख | गोली मार कर हत्या करने की आसंका | परिवहन निगम में करोड़ों का घोटाला |
News in Detail
हॉकी दिग्गजों की मांग, सचिन से पहले ध्यानचंद को मिलना था 'भारत रत्न'
29 Aug 2016 IST
Print Comments    Font Size  
पूर्व दिग्गज हॉकी खिलाड़ियों ने एक बार फिर दिवंगत महान खिलाड़ी धयानचंद को भारत रत्न देने की लंबे समय से चली आ रही मांग दोहराई और कुछ ने कहा कि इस हॉकी के जादूगर को दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर से पहले यह सम्मान दिया जाना चाहिए था।

अजित पाल सिंह, जफर इकबाल, दिलीप टिर्की और ध्यानचंद के बेटे अशोक कुमार यहां जंतर मंतर पर इस उम्मीद के साथ जुटे कि सरकार उनकी मांग पूरी करेगी और उस महान खिलाड़ी को भारत रत्न देगी जिसकी अगुआई में भारत ने 1928, 1932 और 1936 में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते।

इकबाल ने कहा कि हम सब यहां इसलिए जुटे हैं कि ध्यानचदं को सम्मान मिले। लेकिन हम सिर्फ उम्मीद कर सकते हैं कि उन्हें यह मिले। राजनीतिक इच्छा मायने रखती है। जब सचिन तेंदुलकर को यह सम्मान 2014 में मिला तब भी ऐसा ही था। उन्हें पुरस्कार मिले या ना मिले इससे उनके दर्जे पर कोई असर नहीं पड़ेगा। लेकिन उन्हें यह मिलना चाहिए क्योंकि वह इसके सबसे अधिक हकदार हैं।

विश्व कप 1975 में भारत की खिताबी जीत के दौरान टीम की कप्तानी करने वाले अजित पाल ने कहा कि ध्यानचंद यह सम्मान पाने वाले पहले खिलाड़ी होने चाहिए थे। अजित पाल ने कहा कि दुनिया भर के लोग उन्हें जानते हैं। वह हॉकी के जादूगर के नाम से जाने जाते हैं और हमने उनके बारे में इतनी सारी कहानियां सुनी हैं। अगर कोई खिलाड़ी इस सम्मान का हकदार है जो वह हैं। वह इसे हासिल करने वाले पहले खिलाड़ी होने चाहिए थे। वह उस समय खेले और स्वर्ण पदक जीते जब भारत बैलगाड़ी में यात्राएं करता था, बेहद गरीबी थी। खेल के लिए उनका बलिदान काफी बड़ा है। पूर्व की सरकारों ने उन्हें पुरस्कार नहीं देकर गलती की। उम्मीद करता हूं कि ये सरकार इस गलती को सुधारेगी।

तेंदुलकर को ध्यानचंद से पहले सम्मान मिलने पर उन्होंने कहा कि मैं किसी खिलाड़ी की तुलना उनके साथ नहीं करना चाहता। ध्यानचंद उस समय खेले जब हम ब्रिटेन के अधीन थे। आज कल पदक जीतने पर जो इनाम मिलता है वह तब नहीं मिलता था।

ध्यानचंद के बेटे अशोक कुमार ने कहा कि वह हॉकी में हमारे लिए पितातुल्य हैं। असंख्य लोग उनसे प्रेरित होकर इस खेल से जुड़े और भारत को गौरवांवित किया। यह अच्छा अहसास नहीं है कि हम सभी को यहां आकर उनके लिए भारत रत्न मांगना पड़ रहा है। सरकार को काफी समय पहले इस पर फैसला करना चाहिए था।

पूर्व कप्तान टिर्की ने कहा कि यह दुखद है कि हमें खेलों के बीच भेदभाव करते हैं। यह और अधिक दुख की बात है कि हम उनके लिए पुरस्कार की मांग कर रहे हैं। वह उस समय खेले जब कोई मान्यता नहीं होती थी, कोई मीडिया नहीं थी। मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि हम सरकार से आग्रह करते हैं कि जल्द से जल्द जरूरी प्रयास करें। इस दौरान पूर्व खिलाड़ी आशीष बलाल, एबी सुबैया और मोहम्मद रियाज भी मौजूद थे।

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015