Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
19, September,2018 10:57:41
कासगंज* रक्षाबंधन के पावन पर्व पर IAS आर पी सिंह को बालिका ने राखी बांधी, छोटी बच्ची ने राखी बांधकर सुरक्षा का लिया संकल्प,कासगंज जिलाधिकारी के आवास पर, रक्षाबंधन त्योहार पर राखी बांध कर बच्ची ने की खुशी जाहिर,रिपोर्ट फ़हीम | मेरठ में एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय ने मेरठ वैश्य अनाथालय में चाकर रक्षाबंधन पर्व मनाया। यहां पर एसएसपी के साथ एसपी सिटी तथा थानाध्यक्षों ने राखी बंधवाई। | रक्षाबंधनः मंदिर में राखियां अर्पित कर बहनों ने बांकेबिहारी को अपना भाई बनाया | अमर सिंह ने कहा-अखिलेश यादव समाजवादी नहीं, नमाजवादी पार्टी के अध्यक्ष | मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ मिलेगा, पूरा देश उनके साथ: तीन तलाक पर नरेंद्र मोदी | एशियाड: तेजिंदर ने रिकॉर्ड तोड़कर शॉटपुट में जीता सोना, पिता को कैंसर; 7 गोल्ड समेत भारत के 29 पदक | कश्मीर: सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ के बाद चार आतंकी गिरफ्तार किए.. | 18 वें एशियन गेम्स के पुरुष हॉकी मुकाबले में भारत ने कोरिया को 5-3 से हराया। | तलाक की अर्जी लंबित होने पर भी मान्य होगी दूसरी शादी: सुप्रीम कोर्ट | ऐसा क्या हुआ कि पहले अश्लील वीडियो बनाकर रेप का लगाया आरोप, फिर जज के सामने मुकर गई |
News in Detail
गुरु पर्व पर जानिये गुरु नानक जी के जीवन से जुड़ी कुछ प्रमुख बातें...
14 Nov 2016 IST
Print Comments    Font Size  
सिख धर्म के प्रवर्तक गुरुनानक देव का जन्म 15 अप्रैल, 1469 में तलवंडी नामक स्थान पर हुआ था। नानक जी के पिता का नाम कल्यानचंद या मेहता कालू जी और माता का नाम तृप्ता था। नानक जी के जन्म के बाद तलवंडी का नाम ननकाना पड़ा। वर्तमान में यह जगह हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में है। गुरु नानक जी के जीवन से जुड़ी कुछ प्रमुख बातें...
- गुरु नानक जी का विवाह बटाला निवासी मूलराज की पुत्री सुलक्षिनी से हुआ। सुलक्षिनी से नानक के 2 पुत्र पैदा हुए। एक का नाम था श्रीचंद और दूसरे का नाम लक्ष्मीदास था।
- गुरु नानक की पहली 'उदासी' (विचरण यात्रा) 1507 ई. से 1515 ई. तक रही। इस यात्रा में उन्होंने हरिद्वार, अयोध्या, प्रयाग, काशी, गया, पटना, असम, जगन्नाथपुरी, रामेश्वर, सोमनाथ, द्वारका, नर्मदा तट, बीकानेर, पुष्कर तीर्थ, दिल्ली, पानीपत, कुरुक्षेत्र, मुल्तान, लाहौर आदि स्थानों में भ्रमण किया।
- नानक जब कुछ बड़े हुए तो उन्हें पढने के लिए पाठशाला भेजा गया. उनकी सहज बुद्धि बहुत तेज थी. वे कभी-कभी अपने शिक्षको से विचित्र सवाल पूछ लेते जिनका जवाब उनके शिक्षको के पास भी नहीं होता. जैसे एक दिन शिक्षक ने नानक से पाटी पर 'अ' लिखवाया। तब नानक ने 'अ' तो लिख दिया किन्तु शिक्षक से पूछा, गुरूजी! 'अ' का क्या अर्थ होता है? यह सुनकर गुरूजी सोच में पड़ गए।
भला 'अ' का क्या अर्थ हो सकता है? गुरूजी ने कहा, 'अ' तो सिर्फ एक अक्षर है।
- गुरु नानक सोच-विचार में डूबे रहते थे। तब उनके पिता ने उन्हें व्यापार में लगाया।उनके लिए गांव में एक छोटी सी दूकान खुलवा दी। एक दिन पिता ने उन्हें 20 रूपए देकर बाजार से खरा सौदा कर लाने को कहा। नानक ने उन रूपयों से रास्ते में मिले कुछ भूखे साधुओ को भोजन करा दिया और आकर पिता से कहा की वे 'खरा सौदा' कर लाए है।
- उन्होंने कर्तारपुर नामक एक नगर बसाया, जो अब पाकिस्तान में है। इसी स्थान पर सन् 1539 को गुरु नानक जी का स्वर्गगमन हुआ।

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015