Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
23, October,2018 03:48:35
डीसीएम की आमने-सामने की हुई टक्कर, 6 यात्री हुवे घायल | गौतमबुद्धनगर में 4 और गुंडों को 6 माह के लिए किया जिला बदर | हिट एण्ड रन मामला. | बेटे ने पिता पर किया धारदार हथियार से हमला, गंभीर हालत में पिता को अस्पताल में भर्ती | अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ी, एक दिन में एक हजार पंजीकरण हो रहे | कार में लगी आग, ड्राइवर की मौके पर हुई मौत | रंजिश को लेकर चली गोलियां, 4 लोग हुवे घायल | मकान में बिजली करंट से तीन मजदूर झुलसे | चलती कार में महिला के साथ गैंगरेप.. | ट्रक और रोडवेज बस में भीषण भिड़ंत |
News in Detail
पत्नी की याद में बनवा दिया मिनी ताजमहल!
21 Apr 2015 IST
Print Comments    Font Size  
लखनऊ। मोहब्बत कि निशानी ताजमहल पूरी दुनिया के लोगों के लिए एक मिसाल है। शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में ताजमहल बवनाया था। और आपको ये जानकर ताज्जुब होगा कि यूपी के रहनेवाले एक पोस्टमास्टर ने अपनी पत्नी की याद में मिनी ताजमहल बनवाया है।
बुलंदशहर के रिटायर्ड पोस्टमास्टर फैजुल हसन कादरी ने अपनी स्वर्गीय पत्नी तज्जमुली बेगम की याद में एक मिनी ताजमहल बनवाया है। इस ताजमहल की आकृति हूबहू आगरा के ताजमहल जैसी ही है, लेकिन यह देखने में एकदम साधारण है क्योंकि यह मात्र 15 लाख रुपए की लागत से तैयार हुआ है। फैजुल हसन कादरी और तज्जमुली बेगम के कोई संतान नहीं थी।
इसलिए तज्जमुली बेगम ने अपने पति से कहा कि हमें कोई ऐसी इमारत बनवानी चाहिए जिससे की मरने के बाद भी लोग हमें याद करें। तब फैजल ने अपनी बीवी से वादा किया कि वो हूबहू ताजमहल जैसी एक छोटी इमारत बनवाएगा। दिसंबर 2011 में बेगम तज्जमुली का निधन हो गया और फैजल ने फरवरी 2012 में अपने वादे के अनुरूप अपनी घर की खाली प्लाट पर मिनी ताजमहल का काम शुरू करवा दिया।
इसके लिए वो पहले कारीगरों को ताजमहल घुमा कर लाए ताकि वो डिजाइन को अच्छी तरह समझ सकें। फैजुल हसन कादरी के पास कुछ रुपए तो बचत और प्रोविडेंट फंड के थे, लेकिन बाकी रकम का इंतजाम उन्होंने जमीन और अपनी मरहूम बीवी के गहने बेचकर किया। कुल मिलाकर 13 लाख रुपए इकट्‍ठे हुए जिनसे 18 महीनो में एक ढांचा खड़ा हो गया।
हालांकि फिर पैसे खत्म होने के कारण काम बंद करना पड़ा। लोगों ने उन्हें मदद की पेशकश की मगर उन्होंने यह कह कर ठुकरा दी की इसका सम्पूर्ण निर्माण मैं अपने पैसों से करवाऊंगा। अब जैसे-जैसे उनके पास अपनी पेंशन के रुपए इकट्‍ठे होते हैं, वो इसका काम करवाते रहते है। फैजुल हसन कादरी ने अपनी बेगम की कब्र ताजमहल में बनवा दी है और लोगों को कह रखा है कि उनके मरने के बाद उन्हें भी अपनी बेगम के बगल में दफना दिया जाए।

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015