Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
16, January,2018 07:08:12
मेरठ बेटी की मौत का खुलासा एसएसपी ने चारों आरोपियों को मीडिया के सामने पेश कर किया खुलासा प्रेसवार्ता कर एसएसपी ने किया खुलासा गैंगरेप के प्रयास से आहत होकर लगाई थी बेटी ने आग आरोपी फोन कर बेटी को करते थे परेशान दो महीने से लगातार कर रहे थे छात्रा को कॉल दिन में हुआ था गैंगरेप का प्रयास रात में बेटी ने लगाई थी आग लापरवाह एसओ को लाइन हाजिर कर बैठाई जांच बेटी को खुद को जलाने के बाद उपचार के दौरान हुई थी मौत | मेरठ :-अज्ञात युवती का शव मिलने से सनसनी धारदार हथियार से चेहरे पर वार कर की युवती की हत्या गन्ने के खेत मे पड़ा मिला युवती का अस्त व्यस्त शव रेप के बाद हत्या करके शव फेके जाने की आशंका मौके पर पहुँची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच में जुटी पुलिस थाना परतापुर क्षेत्र के अधेड़ा गांव का मामला | वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर में स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर आयोजित राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह को संबोधित किया। | | | केमिकल की दुकान में लगी आग | भदोही- पांच हजार का इनामी धोखाधड़ी का आरोपी गिरफ्तार | स्पेशल टास्क फोर्स ने 10-10 हजार के तिन ईनामी बदमाशों को किया गिरफ्तार | संदिग्ध परिस्थिति में मौत | इलाहाबाद । घूरपुर थाना क्षेत्र के करमा बाजार मे पुलिस टीम पर पथराव पुलिस ने की बचाव मे कई राउन्ड हवाई फायरिग !दुकान मे लगाई गयी आग । |
News in Detail
फोर्टिस के बाद BLK हॉस्पिटल में लापरवाही, बच्ची की मौत, खर्च आया 19 लाख
11 Dec 2017 IST
Print Comments    Font Size  
प्राइवेट अस्पतालों द्वारा इलाज के नाम पर लोगों से मनमाना कीमत वसुलने का एक और मामला सामने आया है. दिल्ली के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराने आई बच्ची की जान तो नहीं बच सकी, लेकिन अस्पताल ने बच्ची के परिजनों को 19 लाख रुपये का बिल जरूर पकड़ा दिया.

इतना ही नहीं अस्पताल ने बिल चुकाने तक बच्ची का शव भी परिजनों को नहीं सौंपा. मामला दिल्ली के सुपर स्पेशिएलिटी BLK हॉस्पिटल का है. जानकारी के मुताबिक, ग्वालियर के रहने वाले नीरज गर्ग अपनी बच्ची को बोन ट्रांसप्लांट के लिए दिल्ली के BLK हॉस्पिटल में भर्ती करवाया था.

बच्ची को 31 अक्टूबर, 2017 को अस्पताल में भर्ती करवाया गया. लेकिन अस्पताल में ही इलाज के दौरान बच्ची को संक्रमण हो गया. संक्रमण के चलते बच्ची को हॉस्पिटल के ICU में रखना पड़ा. बच्ची का अस्पताल में पूरे 25 दिन तक इलाज चला, लेकिन डॉक्टर बच्ची की जान नहीं बचा सके.

बच्ची को 22 नवंबर को ICU में भर्ती किया गया था और तीन दिन बाद 25 नवंबर को उसकी मौत हो गई. बच्ची का इलाज सफलता पूर्वक न करने के बावजूद अस्पताल ने परिजनों को लंबा-चौड़ा बिल थमा दिया.
अस्पताल ने परिजनों को करीब 19 लाख रुपये का बिल पकड़ाया. साथ ही अस्पताल ने तब तक परिजनों को बच्ची का शव नहीं सौंपा, जब तक परिजनों ने बिल की पूरी रकम अदा नहीं कर दी.
बताते चलें कि बीते दिनों दिल्ली एनसीआर के फोर्टिस अस्पताल में भी इसी तरह का मामला सामने आया, जिस पर अभी कार्यवाही चल ही रही है. फोर्टिस अस्पताल में इलाज के दौरान 7 साल की बच्ची आद्या की डेंगी शॉकिंग सिंड्रोम से मौत हो गई थी. लेकिन अस्पताल ने परिजनों को 18 लाख रुपये का बिल पकड़ा दिया.

अस्पताल ने आद्या के बिल के लिए 20 पन्नों का पर्चा तैयार किया, जिसमें सिर्फ दवाई का बिल ही चार लाख रुपए था. अस्पताल ने बिल में 2700 ग्लब्स, 660 सिरिंज और 900 गाउन के पैसे भी शामिल किए थे. डॉक्टर की फीस 52 हजार रुपए शामिल की गई थी. 2.17 लाख रुपये के मेडिकल टेस्ट का बिल भी तैयार किया गया था. इस तरह कुल मिलाकर 18 लाख का बिल बनाया गया था.

मामला जब मीडिया में उछला, उसके बाद स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने मामले का संज्ञान लिया. गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल इस मामले में धारा 304 (2) के तहत FIR दर्ज हो चुकी है. मृतक बच्ची आद्या सिंह के पिता जयंत सिंह ने गुरुग्राम के सुशांत लोक थाने में इसकी शिकायत दी थी. जयंत सिंह द्वारा 11 पेज की शिकायत में अस्पताल प्रबंधन पर यह भी आरोप लगाया गया था कि आद्या को जब निजी एम्बुलेंस से वापिस लाया जा रहा था तो उसके वेंटिलेटर का स्विच बंद कर दिया गया था.

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015