Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
25, June,2018 12:16:12
वृन्दावन कोतवाली इलाके में धुरुव ट्रेवल्स के मालिक की गोली मारकर हत्या | सूत्र-जेडीएस को समर्थन पर कांग्रेस में बगावत...सात विधायक बीजेपी के द्वार | मुख्यमंत्री ने जताया घटना पर अफसोस ,घायलों को सभी संभव मदद व उपचार के लिए निर्देश | केशव प्रसाद मौर्य ने कुशीनगर में रेलवे क्रोसिंग पर हुई स्कूल बस दुर्घटना पर दुख व्यक्त किया है | 8 वर्षीय नाबालिग बच्ची से रेप की वारदात | भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से सीबीआइ अभी और दो दिन पूछताछ करेगी | काली मंदिर की मूर्ति तोड़े जाने से गावँ में तनाव, | हैलेट में एम्बुलेंस तोड़े जाने के मामले में प्रमुख | गोली मार कर हत्या करने की आसंका | परिवहन निगम में करोड़ों का घोटाला |
News in Detail
श्रमिकों के शोषण का बदलता स्टाईल कलयुगी दौर में
19 Dec 2017 IST
Print Comments    Font Size  
यूं तो सदियां बीती अंग्रेज गयें हिंदूस्तान पाकिस्तान दुश्मन बना कश्मीर बटा घर बटे मुल्क बटा रिती रिवाज बदले मौसम बदला तुफान हुदहुद भी आया लेकिन इताना सब बदलने के बावजूद एक बात नहीं बदली श्रमिकों का शोषण हां लेकिन इसमें प्रोग्रेस हुआ है श्रमिकों का शोषण करने का स्टाईल बदला गया हैं पहले श्रमिकों के बीच हो रहीं एकता को तौड़ा जाता था सैलरी में कटोती की जाती थी पीएफ ईएफ जैसे शब्दों से भी मजदूरों की मुलाकात न थी जोईनिंग लेटर से कोई लेन देन न था ईसआई कार्ड़ से मुखातिब भी न हुएं थे ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिंहे लेवर मंत्रालय भारत सरकार द्वारा सुधारा गया हैं
भारत सरकार के श्रमिकों के हित में ऊठायें गयें कड़े नियम कानूनों का डर बिजनेसमैंनों पर इस कदर छाया हुआ हैं कि वे सरकार के बनायें नियम तो मानते हैं लेकिन सिर्फ कागजों पर श्रमिक प्रताड़न अभियान अभी भी मालिकों ने जारी रखा हैं सिर्फ तरिका बदला गया अभी भी अगर जांच परताल किया जाऐं तो कई दफ्तरें व कंपनिया ऐसी मिलेंगी जिसमें गुप्त सीसीटीवी कैमरें लगें हैं जिनसे स्टाफ की हरकतों पर नज़र रखी जाती हैं कंपनी घाटें में चलने के नाम पर कई कई महिनों तक मजदूर की मेहनताना आदा नहीं करती हैं
आज कल तो बीजनेस इंड्रेस्टीज में एक नया फैशन निकला हैं अगर बीजनेस घाटे में हैं तो एक नहीं दो नहीं तीन चार बीजनेस पार्टनर बनजाओं अगर डे में शिफ्ट चलता हैं तो नाईट शिफ्ट भी चलाऐँ नाईट लंबी होती हैं तो तीन शिफ्ट का नियम दो दो तीन तीन शिफ्ट होने से ओफिस रेंट में बीजली बील में और भी बढ़ोतरीयां होती हैं समानों व उपकरणों में भी जिसकों लेकर मालिक पार्टनर के बीच तू तू मैं मैं की जंग छीड़ी रहती हैं जिसका असर सीधें स्टाफ पर पड़ता हैं चारों मे अगर कोई अनबन हुई तो जिसके अंडर जो चीजें आती हैं उसी में लॉक चाहें वे खराब सिस्टम हो इलेंक्ट्रोनिक उपकरण हो या फिर कैंटिंग के खाने पीने की चीजें भहलेंही चीनी चायपत्ति क्यों न सहीं फिर चारो का टोचर सहता कौन है श्रमिक सैलरी टाईम पर न मिलने की वजह और ओफिस में तनावपूर्ण वातावर्ण देख कर स्टाफ बिना कुछ करें बिना कुछ बोले मंजबूरन नौकरी छोड़ने पर मजबूर हो जाता हैं
निभा ठाकुर

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015