Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
20, April,2018 07:47:27
काली मंदिर की मूर्ति तोड़े जाने से गावँ में तनाव, | हैलेट में एम्बुलेंस तोड़े जाने के मामले में प्रमुख | गोली मार कर हत्या करने की आसंका | परिवहन निगम में करोड़ों का घोटाला | केंद्रीय मानव संसाधन विकास, जल संसाधन | 35 वर्षीय युवक का मिला शव | सहारनपुर पहुंच रहे हैं डीजीपी ओपी सिंह, | श्री श्री रविशंकर का ट्वीट | सिटी मजिस्ट्रेट की गाडी से बाइक की जबरदस्त टक्कर | -होली पर फेल हुयी कानून व्यवस्था |
News in Detail
किसानों की खुदकुशी को हल्के में न लें: राजन
25 Apr 2015 IST
Print Comments    Font Size  
चंडीगढ़: रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने किसानों की आत्महत्याओं को हल्के में लिए जाने के प्रति आगाह करते हुए आज कहा कि देशभर के छोटे व सीमांत किसानों को औपचारिक वित्तपोषण सुविधा उपलब्ध होनी चाहिए। दिल्ली में एक रैली में किसान द्वारा आत्महत्या की घटना को देखते हुए राजन ने कहा कि किसी को इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए और न ही आसान सा स्पष्टीकरण देना चाहिए क्योंकि यह काफी जटिल मुद्दा है। उन्होंने यह भी कहा कि अनौपचारिक वित्तपोषण के बोझ के बजाय औपचारिक तंत्र की वित्त सुविधा की कमी एक बड़ी समस्या है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा, ''आज समय की जरूरत यह है कि औपचारिक वित्त संस्थानों को देश के कोने-कोने तक फैलाया जाए। पिछले कुछ दिन में हमने किसानों की आत्महत्यों की दु:खद तस्वीर दिखी है। ये जटिल मामले हैं। इसका आसान स्पष्टीकरण नहीं हो सकता।'' राजन ने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि इसे किसी को हल्के में नहीं लेना चाहिए और न ही आसान स्पष्टीकरण देना चाहिए। इसका अध्ययन किया जाना चाहिए। दिल्ली में राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह द्वारा जनसभा के दौरान आत्महत्या किए जाने के बाद यह मुद्दा काफी गरमा गया है। इस मुद्दे पर संसद में भी जमकर हंगामा हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसके सामूहिक तरीके से समाधान पर जोर दिया है।

राजन ने कहा, ''अनौपचारिक वित्त के बोझ के बजाय औपचारिक वित्त की कमी समस्या है। हमें देश के कोने-कोने में औपचारिक वित्त उपलब्ध कराना चाहिए।'' उन्होंनेे कहा कि प्रधानमंत्री जनधन योजना एेसी ही एक पहल है जिसके जरिए जरूरतमंदों को वित्त उपलब्ध कराया जा सकता है।

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015