Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
19, September,2018 10:56:22
कासगंज* रक्षाबंधन के पावन पर्व पर IAS आर पी सिंह को बालिका ने राखी बांधी, छोटी बच्ची ने राखी बांधकर सुरक्षा का लिया संकल्प,कासगंज जिलाधिकारी के आवास पर, रक्षाबंधन त्योहार पर राखी बांध कर बच्ची ने की खुशी जाहिर,रिपोर्ट फ़हीम | मेरठ में एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय ने मेरठ वैश्य अनाथालय में चाकर रक्षाबंधन पर्व मनाया। यहां पर एसएसपी के साथ एसपी सिटी तथा थानाध्यक्षों ने राखी बंधवाई। | रक्षाबंधनः मंदिर में राखियां अर्पित कर बहनों ने बांकेबिहारी को अपना भाई बनाया | अमर सिंह ने कहा-अखिलेश यादव समाजवादी नहीं, नमाजवादी पार्टी के अध्यक्ष | मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ मिलेगा, पूरा देश उनके साथ: तीन तलाक पर नरेंद्र मोदी | एशियाड: तेजिंदर ने रिकॉर्ड तोड़कर शॉटपुट में जीता सोना, पिता को कैंसर; 7 गोल्ड समेत भारत के 29 पदक | कश्मीर: सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ के बाद चार आतंकी गिरफ्तार किए.. | 18 वें एशियन गेम्स के पुरुष हॉकी मुकाबले में भारत ने कोरिया को 5-3 से हराया। | तलाक की अर्जी लंबित होने पर भी मान्य होगी दूसरी शादी: सुप्रीम कोर्ट | ऐसा क्या हुआ कि पहले अश्लील वीडियो बनाकर रेप का लगाया आरोप, फिर जज के सामने मुकर गई |
News in Detail
रहस्य ३३ कोटि देवताओं का
05 Aug 2015 IST
Print Comments    Font Size  
हिन्दू धर्म सागर की तरह विशाल है. इसकी विशालता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि हिन्दू धर्म में कुल देवी देवताओं की संख्या ३३ करोड़ बताई जाती है. सुनने में कुछ अजीब नहीं लगता? क्या ये संभव है कि किसी धर्म में कुल देवी देवताओं की संख्या ३३ करोड़ हो सकती है? किसी को भी आश्चर्य हो सकता है. कहते हैं कि अधूरा ज्ञान हानिकारक हो सकता है. तो आईये हम इस बारे में कुछ आश्चर्यजनक तत्थ्य जानें.

सबसे पहले ये बात कि हिन्दू धर्म में कुल ३३ करोड़ देवी देवतायें हैं ये सत्य नहीं है. मैंने कई धर्म गुरुओं को पुरे विश्वास के साथ ये कहते सुना है कि ये संख्या सटीक रूप से ३३ करोड़ ही हैं किन्तु जब उनसे ये पूछा जाए कि केवल ३३ देवी देवताओं के नाम बताएं, निश्चित रूप से उन्हें काफी मेहनत करनी पड़ेगी.

सबसे पहली बात, वेद, पुराण, गीता, रामायण, महाभारत या किसी अन्य धार्मिक ग्रन्थ में ये नहीं लिखा कि हिन्दू धर्म में ३३ करोड़ देवी देवताओं हैं और यही नहीं देवियों को कहीं भी इस गिनती में शामिल नहीं किया है. इतनी विशाल संख्या देखते हुआ शायद उन्हें बाद में इस सूची में शामिल कर लिया गया होगा. हमारे धर्म ग्रंथों में ३३ करोड़ नहीं बल्कि "३३ कोटि" देवताओं (ध्यान दें, देवता न कि भगवान) का जिक्र है. ध्यान दें कि यहाँ "कोटि" शब्द का प्रयोग किया गया है, करोड़ का नहीं. आज हम जिसे करोड़ कहते हैं, पुराने समय में उसे कोटि कहा जाता है. युधिष्ठिर ने ध्यूत सभा में अपने धन का वर्णन करते समय कोटि शब्द का प्रयोग किया है. आधुनिक काल के विद्वानों ने कोटि का अर्थ सीधा सीधा अनुवाद कर करोड़ कर दिया.

दरअसल यहाँ कोटि का प्रयोग ३३ करोड़ नहीं बल्कि ३३ (त्रिदशा) "प्रकार" के देवताओं के लिए किया गया है. कोटि का एक अर्थ "प्रकार" (तरह) भी होता है. उस समय जब देवताओं का वर्गीकरण किया गया तो उसे ३३ प्रकार में विभाजित किया गया जो समय के साथ अपभ्रंश होकर कब "करोड़" के रूप में प्रचलित हो गया पता ही नहीं चला. दुःख कि बात ये है कि आज भी हम हिन्दू रटे रटाये तौर पर बड़े गर्व से कहते हैं कि हमारे देवी देवताओं की संख्या इतनी अधिक है. इन ३३ कोटि (करोड़ नहीं) देवताओं को वर्णन आपको किसी भी धर्म ग्रन्थ खासकर पुराणों में मिल जाएगा.

१२ आदित्य, ८ वसु, ११ रूद्र एवं दो अश्विनी कुमार मिलकर ३३ (१३+८+११+२ = ३३) देवताओं की श्रेणी बनाते हैं. इनका वर्णन नीचे दिया गया है:

१२ आदित्य (सभी देवताओं में मूल देवता)

धाता
मित
आर्यमा
शक्रा
वरुण
अंश
भाग
विवास्वान
पूष
सविता
त्वास्था
विष्णु
८ वसु (इंद्र और विष्णु के सहायक)
धर (पृथ्वी)
ध्रुव (नक्षत्र)
सोम (चन्द्र)
अह (अंतरिक्ष)
अनिल (वायु)
अनल (अग्नि)
प्रत्युष (सूर्य)
प्रभास (ध्यौ: यही आठवें वसु थे जिनका जन्म भीष्म के रूप में गंगा की आठवी संतान के रूप में हुआ)
११ रूद्र (भगवान शंकर के प्रमुख अनुयायी. इन्हें उनका (भगवान रूद्र) का हीं रूप माना जाता है)
हर
बहुरूप
त्रयम्बक
अपराजिता
वृषाकपि
शम्भू
कपार्दी
रेवात
मृगव्याध
शर्वा
कपाली
२ अश्विनी कुमार (इनकी गिनती जुड़वाँ भाइयों के रूप में एक साथ ही होती है जो देवताओं के राजवैध भी हैं)
नसात्या
दसरा

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015