Corporate: H-70, Sector-63, Noida (UP), 201301
Studio: C-56, A/20, Sec-62, Noida (UP)

होम बड़ी खबर राज्य खेल विश्व मनोरंजन आस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में पत्रिका
23, October,2018 03:09:13
डीसीएम की आमने-सामने की हुई टक्कर, 6 यात्री हुवे घायल | गौतमबुद्धनगर में 4 और गुंडों को 6 माह के लिए किया जिला बदर | हिट एण्ड रन मामला. | बेटे ने पिता पर किया धारदार हथियार से हमला, गंभीर हालत में पिता को अस्पताल में भर्ती | अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ी, एक दिन में एक हजार पंजीकरण हो रहे | कार में लगी आग, ड्राइवर की मौके पर हुई मौत | रंजिश को लेकर चली गोलियां, 4 लोग हुवे घायल | मकान में बिजली करंट से तीन मजदूर झुलसे | चलती कार में महिला के साथ गैंगरेप.. | ट्रक और रोडवेज बस में भीषण भिड़ंत |
News in Detail
पु‍रुष के लक्षण वाली महिला ने दिया जुड़वां बच्‍चों को जन्‍म
09 Feb 2015 IST
Print Comments    Font Size  
मेरठ. टेस्ट ट्यूब बेबी विधि के जरिए एक ऐसी महिला दो जुड़वां बच्चों की मां बनी है, जिसमें सभी गुण पुरुषों वाले थे। डॉक्टरों की माने तो महिला में जांच के दौरान जो क्रोमोसोम पाए गए वह एक्सवाई क्रोमोसोम थे। यह एक पुरुष के अंदर पाए जाते हैं। महिला का जब परीक्षण के बाद इलाज किया गया तो उसे सफल डिलीवरी हुई और दो जुडवां बच्चों की मां बनी।डॉक्टरों की माने तो यह ऐसा ही है जैसा एक पुरुष किसी बच्चे को जन्म दे। गुड़गांव निवासी इस महिला का इलाज मेरठ के डॉ. मधु जिंदल मेमोरियल टेस्ट ट्यूट बेबी सेंटर में किया गया। इलाज करने वाले डॉ. अंशु जिंदल और डॉ. सुनील जिंदल ने बताया कि इलाज के लिए आई इस महिला की उम्र करीब 33 साल है। अभी तक इस महिला को कोई महावारी नहीं हुई। शादी के बाद सात साल से बांझपन की शिकायत के बाद ये लोग इलाज के लिए यहां आए।
क्‍या कहते हैं डॉक्टर

डॉक्‍टरों के अनुसार, महिला वास्तव में पुरुष है। पुरूष के अंदर 46 एक्सवाई क्रोमोसोम पैटर्न पाया जाता है, जबकि महिला में एक्सएक्स क्रोमोसोम पैटर्न होता है। महिला के क्रोमोसोम की स्टडी की गई तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। महिला के अंदर एक्सवाई क्रोमोसोम पाए गए। कुछ कुदरती विक्रति के कारण उसके शरीर में पुरुष लिंग विकसित नहीं हो पाया, लेकिन एक अविकसित गर्भाश्य के साथ उसने जन्म लिया। कोई अंडाशय और स्त्री हार्मोंन भी इस महिला में नहीं मिले। तब महिला का इलाज शुरू किया गया और उसके अविकसित गर्भ को विकसित किया गया।
इसके बाद हार्मोंस और एनडोक्रोनिएल द्वारा गर्भाश्य को बच्चा जनने लायक बनाया गया। इसके बाद डोनर से अंडाणु लेकर और उसके पति के शुक्राणों से ह्यूमन टिश्यू कल्चर से 'इक्सी विधि' से भ्रूण तैयार किया गया और पहले से तैयार किए गए गर्भाश्य में उसे प्रत्यारोपित किया गया।

 

Send Comments
Name
Location
Email
Comments
  Please Enter the above Characters
होमबड़ी खबरराज्यखेलविश्व लाइफ स्टाइलआस्था
जरा इधर भी व्यापार जोक्स हमारे बारे में
 
 

 

Copy Rights Reserved By www.indiacrime.in - 2015